Independence Day: A Moment To Take Pride In Indian Achievements And To Dream Even Bigger

Independence Day: A Moment To Take Pride In Indian Achievements And To Dream Even Bigger
“If I were asked under what sky the human mind has most fully developed some of its choicest gifts, has most deeply pondered over the greatest problems of life, and has found solutions of some of them which well deserve the attention even of those who have studied Plato and Kant, I should point to India”. – Max Muller wrote this in his book India: What It Can Teach Us.
As India celebrates seventy two years of independence as a nation state today, it is with great hope and confidence that Indians peek into the future. A country which may be a young nation state in the current form, but a civilization which for thousands of years has been the guiding light for humanity, reasserts its rightful place today in the matters of global significance.
Since Indian independence this day in 1947, India just took the boldest step yet in integrating the state of Jammu and Kashmir with the rest of the country. Ideally, Sardar Patel should have been entrusted to seal the full and unconditional integration of the land of Lalitaditya Muktapida with India. But historical mistakes take time to correct.
Under the decisive leadership of Prime Minister Narendra Modi and Home Minister Amit Shah, Article 370, the divisive, restrictive and oppressive instrument of alienating Dalits, women and refugees from partitioned Pakistan has been revoked. “Ek desh mein do Vidhan, do Pradhan aur Do Nishan nahi challenge”. This was the ideal for which Syama Prasad Mukherjee, the founder of Bharatiya Jan Sangh and amongst the tallest inspirations of the Bharatiya Janata Party, sacrificed his life in Srinagar in 1953. On this Independence Day, it is such a gratifying feeling to know that his supreme sacrifice did not go in vain.
Prime Minister Modi and Home Minister Shah have ensured that Pakistan has not been able to internationalize this issue. Jammu and Kashmir was always an integral part of India. With solid legal backing, planning for the Article 370 revocation meticulously and firm intent, India has demonstrated that the world also endorses this position. The world respects Indian decision because we have been consistent and never aggressive.
India is gaining this respect and attention in other fields too. This government has clearly outlined its vision to make India a $5 trillion economy in the next five years. This economic growth is meant to be inclusive as well. The government is tirelessly working to ensure that every Indian has access to affordable healthcare. Nearly every Indian household has access to power and cooking gas today. Most households have a bank account. The country, including the remote rural areas, is now well connected.
These are basic amenities which any compassionate government aims to provide to its citizens. Unfortunately, it has taken India 72 years to get to this point. Nonetheless, the idea should be to look at future and set even firmer and compassionate goal. That’s what this government has done – housing for all in the next few years and piped drinking water for all households in the next five years are the next ambitions.
There is no doubt that the Modi government will address these areas too, for this is the government which is serious about creating an empowered, healthy and purposeful citizenry. This government recognizes that improved ease of living itself improves the social capacity, which then ensures robust economic activity. There is no better way to lead a country on path of development than by ensuring the wellbeing of its citizens and enabling them to achieve their visible and latent potential.
India rescues our stranded citizens from around the world. We also help other countries in rescuing their citizens from conflict zones. Government services are just a tweet away. Feedback from citizens is actively sought by the government and inputs on a variety of areas accounted for to improve governance. The architecture of governance has been fundamentally altered in a way that today Indians trust and take pride in the government and look forward to contributing in continuous improvements because they feel like equal stakeholders in the process.
In a few days, Indian Space and Research Organization will land Chandrayan-2 on the surface of the moon. Mission Shakti, an anti-satellite missile test, was successfully conducted in March this year by Indian scientists. India’s ambitions – and ability to realize these ambitions in a responsible way with no harm to global protocols and environment – lead the world today.
We are setting the pace and we are defining new frontiers for rest of the world. India today maintains strong bilateral relationships across the globe, defined only by mutual national interests. We are trusted globally because our every bilateral relationship is rooted in mutual respect. Be it our constructive climate action or universal vaccination program, be it our nationwide cleanliness drive or environment protection push – India is seen as the new beacon of hope for meaningful, substantial and agile change.
India always had the wherewithal to do all this and much more. We are just embarking on a glorious dual journey of self-improvement and global influence. All it needed was a firm push from a government which has only one guiding principle – national interest. Not very long ago, India was considered Vishwa Guru – there is no doubt that we will claim this position back for ourselves. A self-assured and secure country working with positivity and hope, enabled by a determined and strong-willed government acting for India First will make this happen.
On this solemn occasion, let us be guided by the immortal words of Gurudev Rabindranath Tagore: “Where the mind is led forward by thee into ever widening thought and action. In to that heaven of freedom, my father, LET MY COUNTRY AWAKE!”

Respected Sushma Swaraj Ji – A painful loss

भारत की पहली महिला विदेशमंत्री, लोकसभा में प्रतिपक्ष की नेता रहीं, दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री और हरियाणा में सबसे कम उम्र की मंत्री रही सुषमा स्वराज अब हमारे बीच नहीं रहीं, अचानक यह समाचार सुनकर विश्वास ही नहीं हुआ। उनके निधन से कुछ समय पहले ही उनका ट्वीट पढ़ रहा था। निधन का समाचार सुनते ही आंखों के सामने सुषमा जी का पूरा व्यक्तित्व दिखाई देने लगा। उनकी बातें याद कर मन विचलित हो उठा। विभिन्न कार्यक्रमों में उनके साथ रहने का अवसर मिला। उन्होंने हमेशा एक स्नेहमयी बहन का स्नेह दिया। उसी अधिकार के साथ समझातीं और सलाह देती थीं। कार्यकर्ता और उनके परिवार हमेशा उनकी चिंता के विषय रहते थे।

सुषमा स्वराज दुनियाभर में भारतीय नारी की प्रतिनिधित्व करती थीं। बार्डर वाली साड़ी पहने, सिंदूर से भरी हुई मांग और माथे पर लाल बिन्दी लगाए जब सुषमाजी विश्व भ्रमण करती थीं तो भारत की हर नारी गौरवान्वित महसूस करती थीं। अपने विचारों से उन्होंने भारतीय नारी की गरिमा का विश्व को अहसास भी कराया। प्रखर वक्ता के तौर पर भारतीय जनता पार्टी का पक्ष मीडिया में रखती तो प्रश्न पूछने वाले कम हो जाते थे। एक कुशल संगठक के तौर पर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं में अनूठी छाप रहेगी। एक कुशल संगठक के नाते उन्होंने कार्यकर्ताओं को गढ़ने का कार्य किया। लोकसभा में प्रतिपक्ष के नेता के तौर पर उन्होंने सत्तापक्ष को हमेशा शालीनता से चुनौती दी। उनके तर्कपूर्ण बयानों से सामने वाला लाजवाब होते जाते थे।

भारत की पहली महिला विदेशमंत्री के रूप में विदेशों में रहने वाले भारतीयों को सुषमाजी से मां और बहन का प्यार मिला। विदेशों में रहने वाले भारतीयों की राय थी कि सुषमाजी के विदेशमंत्री रहने पर किसी भी संकट में उन्हें लगता था कि दिल्ली में उनकी चिंता करने वाला कोई बैठा है। सुषमाजी ने विदेशमंत्री रहते हुए दुनिया के हर कोने में रहने वाले भारतीयों की हर संकट में मदद की। विदेशों में रहने वाले भारतीयों में जो पहले सोचते थे कि हमारी कोई मदद करने वाला नहीं है, उन्होंने एक आत्मविश्वास भर दिया। ऐसे हजारों उदाहरण सामने हैं।

सुषमाजी की सबसे बड़ी विशेषता थी कि कार्यकर्ताओं का ध्यान रखना। एक कुशल संगठक के तौर पर तो कार्यकर्ताओं को गढ़ने का काम किया ही साथ उनके व्यक्तिगत जीवन में झांककर मां और बहन के रूप में चिंता करती और सलाह देती। जब मैं भारतीय जनता युवा मोर्चा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष था तो बहुत प्रवास करता था। उन दिनों प्रवास रेल या सड़क मार्ग के जरिये ज्यादा होते थे। उन्होंने पूछा कि कितने दिन घर से बाहर रहते हो। जब मैंने बताया कि एक माह में 25-26 दिन प्रवास पर ही रहता हूं तो इन्दौर में कम ही रह पाता हूं। इस पर एकदम से बोली कि अरे तो मां, पत्नी, भाई-बहनों और बच्चों को कब समय देते हो। जब मैंने बताया कि परिवार में सब हम मां के साथ रहते हैं। संयुक्त परिवार है। भाई परिवार का पूरा ध्यान रखते हैं। इस कारण कोई समस्या नहीं होती है। इस कारण कोई आवश्यकता नहीं लगती है। इस पर उनका कहना था कि आप कितने भी सफल नेता बन जाएं अगर आप अच्छे पुत्र नहीं है, आप अच्छे पति नहीं है। आप अपने बच्चों को पर्याप्त समय नहीं दे पाते हैं तो आप अच्छे पिता नहीं है तो मैं आपको सफल नेता नहीं मानूंगी। अपने भाई-बहनों के साथ समय नहीं बिता पाते हैं तो आप अच्छे भाई भी नहीं है। परिवार को समय देने के लिए क्वालिटी समय शब्द का उन्होंने इस्तेमाल किया। परिवार में सफल रहने के बाद ही आप राजनीति में सफल माने जाते हैं। यह सीख उन्होंने मेरे जैसे लगभग पूर्णकालिक कार्यकर्ता को दी थी। ऐसे सीख सुषमा सभी कार्यकर्ताओं को देती थीं। इसी कारण उन्हें कार्यकर्ताओं के परिवारों में मुखिया का दर्जा मिला हुआ था।

श्रीकृष्ण उनके आराध्य थे। कृष्ण भजन गाना और नृत्य करना उनका बहुत अच्छा लगाता था। इसी कारण उन्होंने बेटी का बांसुरी रखा। कुछ दिन बाद जन्माष्टमी हैं। ऐसे अवसर पर वे हमारे साथ नहीं होंगी। उनकी कमी हमेशा खलती रहेगी। बहुत याद आएंगी बड़ी दीदी सुषमाजी।

कैलाश विजयवर्गीय

Modi ka pran pura – Vyarth nahi gaya Dr. Mukherjee ka balidaan

मोदी का प्रण पूरा- व्यर्थ नहीं गया डा. मुखर्जी का बलिदान

कश्मीर के लाल चौक में अब शान से फहरायाएगा तिरंगा। पूरे जम्मू-कश्मीर में अब तिरंगा ही फहराएगा। श्री नरेंद्र मोदी जी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार के जम्मू-कश्मीर से धारा 370 समाप्त करने के फैसले से 23 जून 1952 में देश की एकता और अखंडता के लिए अपने प्राणों की बलि देने वाले जनसंघ के अध्यक्ष डा.श्यामा प्रसाद मुखर्जी को सच्ची श्रद्धांजलि दी है। प्रधानमंत्री मोदी ने 28 साल पहले 26 जनवरी 1992 में आतंकवाद से पीड़ित कश्मीर के लाल चौक से जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने का जो प्रण लिया था, वह 5 अगस्त 2019 को पूरा कर दिया। भाजपा के तत्कालीन अध्यक्ष डा.मुरली मनोहर जोशी जी ने कन्याकुमारी से प्रारम्भ हुई यात्रा का उस दिन कश्मीर में समाप्त किया था।

इतिहास में 15 अगस्त भारत के स्वतंत्रता दिवस की तरह ही 5 अगस्त जम्मू-कश्मीर की आजादी के लिए दर्ज हो गया है। 5 अगस्त को गृह मंत्री श्री अमित शाह जी ने राज्यसभा में धारा 370 हटाने के लिए संकल्प पेश किया। शाह के संसद में प्रस्ताव रखने के बाद राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद जी ने अनुच्छेद 370 हटाने के लिए संविधान आदेश (जम्मू-कश्मीर के लिए) 2019 के तहत अधिसूचना जारी कर दी। लद्दाख को अलग केंद्र शासित राज्य बनाया गया है। जम्मू-कश्मीर दिल्ली और पुद्दुचेरी की तरह विधानसभा वाला केंद्र शासित प्रदेश होगा। जम्मू-कश्मीर से धारा 35ए भी समाप्त कर दी गई है। 35ए के कारण जम्मू-कश्मीर की महिला के राज्य से बाहर शादी करने पर वहां की नागरिकता समाप्त कर दी जाती थी। पाकिस्तान में शादी करने पर तो वहां महिला को नागरिकता मिल जाती थी।

देश के बंटवारे के समय जम्मू-कश्मीर के राजा हरिसिंह पहले स्वतंत्र राज्य चाहते थे। बाद में उन्होंने भारत में विलय की मंजूरी दी। नेशनल कांफ्रेस के नेता शेख अब्दुल्ला ने राज्य को भारतीय संविधान से अलग करने की पेशकश की थी। नवंबर,1956 में राज्य का संविधान बना और 26 जनवरी,1957 को राज्य में विशेष संविधान लागू कर दिया गया।  धारा 370 के प्रावधानों के कारण संसद को जम्मू-कश्मीर में रक्षा, विदेश मामले और संचार के विषय में कानून बनाने का अधिकार था। अन्य कार्यों से संबंधित क़ानून को लागू करवाने के लिए केंद्र को राज्य सरकार की अनुमति चाहिए थी। जम्मू-कश्मीर में भारत के निवासी जमीन नहीं खरीद सकते थे। धारा 370 में समय-समय पर बदलाब भी हुए। 1965 तक वहां राज्यपाल और मुख्यमंत्री नहीं होता था। उनकी जगह सदर-ए-रियासत और प्रधानमंत्री होता था। धारा 370 में हुए बदलावों के आधार पर ही धारा 370 हटाने का सरकार ने फैसला किया है।
पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू जी की सरकार ने भारतीय संविधान की धारा 370 के तहत यह प्रावधान किया था कि कोई भी नागरिक भारत सरकार के परमिट बना जम्मू-कश्मीर में प्रवेश नहीं कर सकता था। जनसंघ के अध्यक्ष डा.मुखर्जी जी ने इस प्रावधान का विरोध किया था। 1952 में एक देश में “दो विधान, दो निशान और दो प्रधान, नहीं चलेगा- नही चलेगा” के नारे के साथ जोरदार प्रदर्शन किए गए थे। डा.मुखर्जी उस समय कहते थे कि नेहरू जी कहते हैं कि जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा है तो वहां जाने के लिए परमिट क्यों जरूरी है। शेख अब्दुल्ला ने डोगरा समुदाय पर भी बहुत जुल्म किए। डोगरा समुदाय में जम्मू-कश्मीर का पूरी तरह भारत में विलय करने के लिए आंदोलन किया था।

डा.मुखर्जी ने विरोध जताने और कश्मीर के हालत देखने के लिए 8 मई 1953 को दिल्ली से पैसेंजर ट्रेन यात्रा प्रारम्भ की। उनके साथ उस समय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी भी थे। जम्मू-कश्मीर की सीमा में प्रवेश करने पर डा.मुखर्जी को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें शेख अब्दुल्ला सरकार ने बहुत ही छोटे से कमरे में कैद करके रखा। 23 जून 1953 को बीमारी की हालत में उन्हें एक इंजेक्शन दिया गया। डा.मुखर्जी देश की एकता और अखंडता के लिए बलिदान हो गए। नेहरू ने डा.मुखर्जी की मां जोगमाया की उनकी मृत्यु की जांच कराने की मांग को अनसुना कर दिया था।

अब तिरंगा ही जम्मू-कश्मीर का राष्ट्रीय ध्वज होगा। आरटीआई और सीएजी कानून लागू होंगे। राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अब अपराध माना जाएगा। सुप्रीम कोर्ट के आदेश अब राज्य में लागू होंगे। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और देश के गृहमंत्री  श्री अमित शाह जी ने जिस तरह लगातार कठिन श्रम करते हुए जम्मू-कश्मीर का पुनर्गठन कराया, उन्हें बधाई। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी इस मुद्दे पर विरोध कर रहे हैं। संसद में हंगामा मचाया गया। ऐसे दलों को समझना चाहिए कि देश की राजनीति बदल गई है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक परिवर्तन की लहर चल रही है।  


Kaki ji ke sneh ke bina beeta saal

काकीजी’ के स्नेह के बगैर बीता साल!

आज ‘काकीजी’ यानी मेरी माताजी को इस दुनिया से गए पूरा एक साल हो गया! मेरे लिए बहुत दुख से भरा दिन है। वे नहीं हैं, फिर भी यही अहसास होता है कि वे साथ हैं! उनकी बातें कानों में गूंजती है। घर, परिवार और मेरे प्रति उनकी चिंता करने की आदत भुलाए नहीं भूलती! सिर पर उनके ममता भरे हाथ का स्पर्श मुझे आज भी होता है। वे पूरे परिवार के लिए ‘काकीजी’ थीं। यूँ कहा जाना ज्यादा ठीक होगा कि वे ‘जगत काकी’ थीं! जीवन पर्यंत उन्हें इसी संबोधन से पुकारा जाता रहा। उनके स्नेह और ममत्व से पूरा परिवार और सारे परिचित सराबोर रहते थे। मेरे प्रति उनका स्नेह अगाध था। जब मैं शहर में रहता तो कितनी भी व्यस्तता हो, उनसे आशीर्वाद लिए बिना घर से निकलना मेरे लिए संभव नहीं था! उनके साथ थोड़ी देर बैठे और बात किए बिना न तो मेरा दिन शुरू होता था और न ख़त्म! लेकिन, यदि शहर से बाहर रहूँ, तो भी सुबह और शाम उनसे फ़ोन पर बात होती थी! वे जब तक पूरे हालचाल नहीं जान लेती, उन्हें संतोष नहीं होता! बीते एक साल में उनकी कमी मुझे इस रूप में भी बहुत ज्यादा खली! 

मुझे लगता है कि जीवन में माँ से बड़ी कोई नियामत नहीं हैं। जब तक ‘काकीजी’ का साथ रहा, उस अहमियत का इतना ज्यादा अहसास नहीं हुआ! लेकिन, अब जबकि उनका साथ छूट गया, लगता है जीवन में उनकी मौजूदगी कितनी अहम थी! उनकी कभी न खत्म होने वाली ममता और आशीर्वाद में उठे उनके दो हाथ आज भी आँखों में बसे हैं। उनका निश्छल स्नेह आंखों से, हाथों से और शब्दों के बिना भी झलकता था। उनको बिछुड़े सालभर हो गया पर घर के हर कोने में उनकी सौंधी सी महक महसूस होती है। जबकि, सच्चाई ये है अब मुझे और परिवार को अब उनके बगैर जीने की आदत डालना होगी! क्योंकि, वे जिस दुनिया में चली गईं हैं, वहाँ से कभी कोई लौटकर नहीं आता! … आती है तो उनकी याद, उनके साथ बिताए पलों के संस्मरण और उनकी ममता!  


‘काकीजी’ आप जहाँ भी हों, हम सभी पर अपना आशीर्वाद बनाए रखना! 


… आप साथ नहीं हैं, पर आपके दिए संस्कार, आपकी नसीहत और जीवन दर्शन हमेशा हमें रास्ता दिखाएगा!

Please Vote For India

मतदान अवश्य करें

अपना विचार प्रकट करने के लिए मतदान श्रेष्ठ तरीका है। मतदान की व्यवस्था किसी वर्ग या समाज के सदस्य के अलावा लोकसभा या विधानसभा में अपना प्रतिनिधि चुनने या किसी अधिकारी के निर्वाचन में अपनी इच्छा या किसी प्रस्ताव पर अपना निर्णय प्रकट करने के लिए की जाती है। इस दृष्टि से यह व्यवस्था सभी चुनावों तथा सभी संसदीय या प्रत्यक्ष विधि निर्माण में प्रयुक्त होती है। अधिनायकवादी सरकार में अधिनायक द्वारा पहले से लिए गए निर्णयों पर व्यक्ति को अपना मत प्रकट करने के लिए कहा जाता था। है। लोकतंत्र में तो मतदान से चुनी सरकार को ही मान्यता है। लेकिन, इसके लिए जरुरी है, कि सभी मतदाता अपना पक्ष जाहिर करें! क्योंकि, जितने ज्यादा मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे, नतीजा उतना ही स्पष्ट और लोकतांत्रिक नजरिए से सही माना जाएगा।
प्राचीन समय में धार्मिक संस्थाओं में, विशेषत: बौद्ध संघों में भी निर्वाचन के नियमों का पालन होने के प्रमाण हैं। यूरोप में प्राचीन यूनान तथा इटली में मतदान की व्यवस्था विद्यमान थी। प्राचीन राजतंत्रों में यह प्रचलन था कि कुछ गंभीर विषयों पर स्वयं निर्णय लेने के पूर्व राजा अपनी प्रजा की सहमति प्राप्त करने के लिए उन्हें आमंत्रित करता था। ऐसी सभाओं में मत प्रकट करने का ढंग मौखिक था। एथेंस में जहाँ मतदान की व्यवस्था थी, वहाँ हाथ उठाकर मत प्रकट करने की प्रथा थी। परंतु किसी व्यक्ति के सामाजिक स्तर पर प्रभाव डालने वाले विषयों पर गुप्त मतदान की व्यवस्था थी। आज भी अपना प्रतिनिधि चुनने के लिए हम मतदान का ही प्रयोग करते हैं!
हम एक लोकतांत्रिक देश के स्वतंत्र और विचारवान नागरिक है। लोकतांत्रिक व्यवस्था के तहत नागरिकों को जो अधिकार मिलते हैं, उनमें वोट देने का अधिकार प्रमुख है। इस अधिकार को पाकर ही हम मतदाता कहलाते हैं। मतदाता के पास ही वह ताकत है, जिसके जरिए वह सरकार बना भी सकता है और गिरा भी सकता है। भारत युवा देश है, जिसकी 65% आबादी 35 साल से कम उम्र के मतदाताओं की है। इसलिए युवाओं का दायित्व है कि वे स्वयं तो वोट दें ही, अशिक्षित लोगों को भी वोट का महत्व बताकर उनको वोट देने के लिए प्रेरित करें। लेकिन, हमारे देश में मतदान वाले दिन लोगों को उससे भी ज्यादा जरूरी काम याद आने लगते हैं। ऐसे में गैर-जागरूक, उदासीन व आलसी मतदाताओं के भरोसे चुनावों में सभी की भागीदारी कैसे सुनिश्चित होगी? समाज में एक तबका ऐसा भी है, जो राजनीतिक पार्टी और उम्मीदवार के गुण और उसके वादे न देखकर धर्म, मजहब व जाति देखकर वोट करता हैं। ऐसे लोग अपना वोट संकीर्ण स्वार्थ के वशीभूत होकर दे देते हैं, जो उचित नहीं है।
एक बार फिर हमारे सामने लोकतांत्रिक भारत की 17वीं लोकसभा गठन का दायित्व है। हमें अपने क्षेत्र से सही नेतृत्व का चुनाव करना है, जो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी का उम्मीदवार ही होगा। भारत को विश्वशक्ति, विश्वगुरू और विकास के हर क्षेत्र में विकसित देश के रूप में आगे लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों को मजबूत बनाना है। बीते 5 सालों में देश ने बहुत विकास किया और कई प्रतिमान गढ़े, लेकिन अभी भी बहुत से काम अभी बाकी हैं। यदि हर मतदाता ठान ले कि उसे 19 मई को अपने मताधिकार का सही उपयोग करना है तो भाजपा के नरेंद्र मोदी के फिर से मौका देना होगा!
… 19 मई रविवार को छुट्टी मत मनाइए! दिन की शुरुआत अपने मताधिकार से करें और देश को समृद्धशाली बनाने के लिए भाजपा के ‘कमल’ निशान के सामने का बटन दबाते हुए नरेंद्र मोदी को चुनें।

संवत्सर पर दीप जलाएं

कैलाश विजयवर्गीय
नव संवत्सर 2076 पर शुभकामनाएं। चैत्र नवरात्र के साथ ही गुड़ी पड़वा, होला मोहल्ला, युगादि, विशु, वैशाखी, कश्मीरी नवरेह, उगाडी, चेटीचंड और चित्रैय तिरुविजा के अवसर आप सबको बधाई और शुभकामनाएं। भारतीय नव वर्ष के आगमन के साथ ही हम सब नए संकल्प के साथ विकास, एकता और अखंडता का मंत्र पूरे राष्ट्र में गुंजाएं। नव संवत केवल नव वर्ष की शुरुआत नहीं है। विक्रम संवत 2076 हमें स्मरण कराता है भारत की महान समृद्ध परम्पराएं। विक्रम संवत के प्रारम्भ से जुड़ी हैं शौर्य, शक्ति, भक्ति, त्याग की प्राचीन गौरव गाथाएं। संवत्सर हमें याद दिलाता है कि भारत की प्राचीन वैज्ञानिक काल गणनाओं का इतिहास। विक्रम संवत हमें हमारी प्राचीन संस्कृति से जोड़ने का पर्व है। यह दिन आने वाले उत्सवों की शुरुआत का है। आइयें विक्रम संवत का धूमधाम से स्वागत करें। मां दुर्गा की आराधना में तो हम दीपक प्रज्वलित करते ही हैं। साथ ही रात्रि में घरों पर दीप जलाकर अज्ञान के अंधकार को भगाएं और ज्ञान के प्रकाश का स्वागत करें, वंदन करें, अभिनंदन करें। इस पवित्र अवसर मां दुर्गा की आराधना कर राष्ट्र के शत्रुओं की विनाश की कामना और अधर्म पर धर्म की जय का शंखनाद करें।
भारतीय हिन्‍दू कैलेंडर विक्रम संवत एक अति प्राचीन संवत है। इस पंचांग में हर प्रकार के ग्रहों की गणना की गई है। विक्रम संवत की ग्रह गणनाओं के आधार पर जन्म के बाद मुंडन, यज्ञोपवीत, विद्याआरम्भ, विवाह आदि मांगलिक कर्मों के साथ ही पुरखों की आत्मा की शांति के लिए होने वाले दान-पुण्य किए जाते हैं। विक्रम संवत का प्रारम्भ उज्जयिनी के महान सम्राट विक्रमादित्य ने किया था। प्राचीन ग्रंथों में बताया गया है कि विक्रमादित्य नव संवत के दिन ही राजसिंहासन पर विराजमान हुए थे। हमारे यहां और भी कलैंडर प्रचलन में है पर विक्रम संवत सर्वमान्य संवत हैं। विक्रम संवत सूर्य-चन्द्र की गति पर आधारित है। संवत के अनुसार ग्रहों की गणनाओं के आधार पर मौसम ही नही तमाम भविष्यवाणियां सटीक सिद्ध हुई हैं।
विक्रम संवत के आधार पर कल्प, मनवंतर, युग, संवत्सर आदि कालगणना की जाती है। पुराणों के अनुसार भारत का सबसे प्राचीन संवत कल्पाब्ध था। सृष्टि, सप्तर्षि, ब्रह्म-संवत, वामन-संवत और परशुराम-संवत, श्रीराम-संवत, युधिष्ठिर संवत और कलि संवत का उल्लेख युगों के अनुसार प्रचलन में थे। सतयुग का प्रारम्भ नव संवत से ही हुआ था। इस बारे में अथर्ववेद तथा शतपथ ब्राह्मण में बताया गया है। योगीराज भगवान श्रीकृष्ण के जन्म की तिथि से कलियुग संवत का प्रारम्भ हुआ था। पुराणों में बताया गया है कि नव संवत को ही भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था। भगवान राम का राज्याभिषेक भी नव संवत के दिन हुआ था।
पुराणों के अनुसार नव संवत्सर पर सूर्योदय से ब्रह्माजी ने सृष्टि की रचना प्रारंभ की। भक्ति और शक्ति के नौ दिवसीय पर्व नवरात्र का प्रारम्भ का प्रथम दिन होता है नव संवत यानी चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा। सिखो के द्वितीय गुरू श्री अंगद देव जी का जन्म दिवस है। स्वामी दयानंद सरस्वती जी ने नव संवत पर ही आर्य समाज की स्थापना की और कृणवंतो विश्वमआर्यम का विश्व को संदेश दिया | सिंध प्रान्त के प्रसिद्ध समाज रक्षक वरूणावतार भगवान झूलेलाल जन्मोत्सव संवत्सर के अगले दिन मनाया जाता है। चेटीचंट का त्योहार सिंध में नव संवत के दूसरे दिन मनाया जाता है। विक्रमादित्य की भांति शालिवाहन ने हूणों को परास्त कर दक्षिण भारत में श्रेष्ठतम राज्य स्थापित करने हेतु यही दिन चुना। शक संवत की स्थापना की । महाराजा युधिष्ठिर का राज्यभिषेक भी इसी दिन हुआ। महर्षि गौतम की जयंती का दिन भी है संवत्सर।
भारत में सनातन संस्कृति के लिए राष्ट्र प्रेम का भाव जगाने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक माननीय केशवराव बलिराम हेडगेवार का जन्म भी इस पावन दिन हुआ था। नव संवत हमारे देश की कृषि से जुडें पर्वों के प्रारम्भ का दिन है। फसल पकने के साथ किसानों को अपने परिश्रम का फल मिलता है। महाराष्ट्र गुडी पडवा पर्व, पंजाब में होला मोहल्ला, दक्षिण उगाडी पर्व आदि सभी कृषकों के उल्लास और मस्ती के पर्व हैं। यह प्रकृति के पूजन के पर्व भी है। संवत्सर पर देवी-देवताओं, यक्ष-राक्षस, गन्धर्वों, ऋषि-मुनियों, मनुष्यों, नदियों, पर्वतों, पशु-पक्षियों आदि के पूजन का विधान बताया गया है। आराधना के माध्यम से हम सुख, समृद्धि, शांति, आरोग्य और सामर्थ्य की कामना करते हैं। नवरात्र में नौ दुर्गा के नवरूपों की उपासना से हमें से रोगों से मुक्ति मिलती हैं। आइये नव संवत्सर पर शक्तिशाली भारत के निर्माण का संकल्प लेकर हम उत्साह के साथ पर्व मनाएं।

Shubho Nobo Borso

शुभो नोबो बोरसो’

कैलाश विजयवर्गीय

सभी बंगाली बंधु और बहनों को शुभो नोबो बोरसो। नव वर्ष बंगाल के लोगों के लिए लोकतंत्र की खुली बयार लेकर आए। बंगाल के लोग नव वर्ष में खुली हवा में सांस लें। बंगाल के लिए नव वर्ष नई-नई खुशियां लाएं। पिछले कुछ वर्षों से राज्य में रुकी हुई विकास की गति में तेजी जाए। भ्रष्टाचार कम हो और लोगों को राहत मिले। ऐसी शुभकामनाओं के साथ नव वर्ष का स्वागत करते हैं, अभिनंदन करते हैं।

मेरा बंगाल और बंगाली संस्कृति से बहुत नजदीक का संबंध रहा है। मुझ पर बंगाल के महान संतों, क्रांतिकारियों, साहित्यकारों, कलाकारों और लोगों का बहुत असर रहा है। जनसंघ के संस्थापक डा.श्यामाप्रसाद मुखर्जी के कश्मीर में हुए बलिदान ने मुझे झकझोर दिया था। उनके बलिदान से मुझे देश के लिए कार्य करने की प्रेरणा मिली। उनकी प्रेरणा से ही मैं राजनीति में आया। बंगाल के समाज सुधारकों का मुझ पर बचपन से प्रभाव रहा। मैंने बंगाली साहित्य भी खूब पढ़ा। सबसे बड़ी बात यह है कि मेरी पत्नी बंगाल की है। इस कारण हमारे घर में मालवा के साथ बंगाल के उत्सव भी लगातार मनते रहते हैं।

बंगाल में नववर्ष को पोहला बोईशाख भी कहा जाता है। इसका अर्थ है बैशाख का पहला दिन। पोएला यानी पहला और बोइशाख यानी बैशाख महीना। बंगाली कलैंडर हिन्दू सौर मास पर ही आधारित है। बंगाली नववर्ष के साथ ही केरल में विशु मनाया जाता है। विशु मलयाली नववर्ष होता है। अलग-अलग राज्यों और क्षेत्रों में इनके आसपास ही नव वर्ष की शुरुआत होती है। उत्तर भारत में चैत्र बैशाख शुक्ल प्रतिपदा से भारतीय नववर्ष प्रारम्भ होता है। पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, औडिशा, असम और आसपास के राज्यों में पहला बोइशाखा पर बहुत धूमधाम होती है। असम में इससे एक दिन पहले बिहू की मस्ती रहती है।

बोइशाखा का शुभ माह बंगाल के लिए शुभ हो। जिस तरह पोइला बोइशाख पर हम अपने घरों की सफाई करते हैं। रंग-रोगन करते हैं। सकाले जागते हैं, नहाते हैं, नए-नए वस्त्र पहनते हैं। पूजापाठ करते हैं। रिश्तेदारों और बंधुओं से मिलते हैं। घरों में उत्सव मनाते हैं, पकवान बनाते हैं और आपस में वितरित करते हैं। पोइला बोइशाख परिवार की समृद्धि और कल्याण के लिए मां काली की आराधना का पर्व है। इस अवसर पर सभी को कोशिश होती है कालीघाट मंदिर में जाकर मां काली का आशीर्वाद लिया जाए। पोइला बोइशाखा पर हम बंगाल में लोकतंत्र की अलख जगाने के लिए मां काली से प्रार्थना करें। हे मां काली हम पर नोबों बोरसों में कृपा बरसाएं। हमें राज्य में आतंक से मुक्ति मिले। बोइशाखा के पोइला दिन सूर्य की उपासना का दिन भी है। प्रातकाल उठकर सूर्य को देखने से परिवार में शुभ कार्य होते हैं। भगवान श्री गणेश और देवी लक्ष्मी की उपासना की जाती है। पोइला बोइशाखा के दिन बंगाल में हर जगह में पूरे वर्ष अच्छी बारिश हो, इसके लिए बादलों की पूजा की जाती है। यह प्रकृति की उपासना का दिन भी है। पोइला बोइशाख व्यापारियों के लिए नई बहीखाते शुरु करने का दिन होता है। बंगाल में इसे हालखाता कहा जाता है। यह दिन बंगाल की महान परम्पराओं का हिसाब किताब याद रखने का दिन भी हैं। बंगाल में दूर्गा पूजा पर रोक, रामजन्मोत्सव मनाने पर रोक, हनुमान जयंती पर प्रतिबंध, सरस्वती पूजा की मनाही, हिन्दुओं के त्योहारों पर तरह-तरह के प्रतिबंध लगाए जाते हैं। वोट बैंक के लालच में हमारी समृद्ध परम्पराओं को धराशायी किया जा रहा है।

एक समय राज्य में बैशाली मेलों की धूम होती थी। आज भी जगह-जगह मेले लगते हैं। इन मेलों में आतंक के कारण मस्ती खत्म होती जा रही है। पोइला बोइशाख पर जगह-जगह रवीन्द्रनाथ टैगोर का गीत एशो है बोइशाख एशो एशो गाते हुए लोग दिखाई देते थे। यह परम्परा कम होती जा रही है। आइये नोबो बोरसों पर हम संस्कृति का बढ़ाने के लिए संकल्प लेते हैं। मां काली से प्रार्थना करते हैं कि पूरे वर्ष हम पर कृपा बरसाएं। बंगाल में धन-धान्य की वृद्धि हो। साथ ही बंगाल के लोगों को राजनीतिक आतंक से मुक्ति से मिले।

न मातु: पर दैवतं

कैलाश विजयवर्गीय

आज से ६३ वर्ष पूर्व परम ममतामयी पूज्य काकी जी ने मुझे इस संसार में पदार्पण कराया था, बहुत बचपन की तो याद नहीं, लेकिन जबसे होश संभाला है तो किसी विपत्ति के समय मुझे माँ की वात्सल्यमयी गोद सभी संकटों से बचाव के लिए एकमात्र आश्रय के रूप में सदैव उपलब्ध रही। अपने राजनैतिक कार्यों के दौरान कई-कई दिनों तक घर नहीं जा पाता था। तब घर जाने का आकर्षण की कुछ और था। पांच मिनिट के लिए ही सही,यदि मैं काकी जी के पास बैठ जाता, उनके चरण स्पर्श कर लेता तो मानों सारे संसार की विपत्तियाँ समाप्त हो जाती थीं। उनका हाथ सिर पर अनुभव होते है मनो गंगाजल का स्पर्श हो जाता था।

बचपन से गत वर्ष तक प्रत्येक बार अपने जन्मदिन पर मैं कैसे भी करके माँ के पास अवश्य पहुँच जाता था। वे प्रत्येक बार मेरे मस्तक पर टीका लगाती, सर पर हाथ फेरती, आशीर्वाद के कुछ शब्द बोलती और हाथ में श्रीफल के साथ कुछ रुपये रख देती थी। मुझे एसा लगता था कि उनके आशीर्वाद के शब्दों में माता सरस्वती जी, सिर पर रखे हाथ में माता महाकाली और हाथ में रखे रुपये में माता लक्ष्मी माता की कृपा मुझे प्राप्त हो गई हो। मस्तक पर उनके हाथों से लगाया गया टीका मुझमें मानो नवीन ऊर्जा का शक्तिपात कर देता था। उनके द्वारा दिया गया श्रीफल साक्षात भगवन नारायण का स्वरूप लगता था। मैं उनके द्वारा दिए गए रुपये पूरे वर्ष भर संभालकर रखता ये मुझे उनकी ममता के अमोघ कवच के रूप में स्वरक्षित रखते थे वो कहती थी कि सावर्जनिक जीवन में हमेशा सत्कर्म करना, खूब काम करना, अपनी आलोचनाओं से विचलित नहीं होना। जब तक तुम दर्पण में अपनी आँख में आँख डालकर देख सकते हो, तब तक तुम निष्पाप हो उनके इन कथनों के कारण ही मैं सत्य और नैतिकता के पथ पर सदैव चलते रहने के लिए प्रतिज्ञावध्य रहा हूँ।

आज ६३वें जन्मदिन पर कैसा संयोग हैं कि ६३ का आंकड़ा एक दूसरे से मिलने का प्रतीक हैं, पर मेरी और मेरे असंख्य कार्यकर्ता बंधुओं की पूज्य काकी जी से मैं नहीं मिल पाऊंगा। आज उनकी अनुपस्थिति में मेरे जन्मदिवस पर मेरी आत्मा कांप रही हैं। नेत्रों से अविरल अश्रुधार प्रवाहित है। उनके हाथ का स्पर्श अपने सिर पर लेने के लिए पूरा शरीर व्याकुल है उनके चरणों का स्पर्श हाथ मानों तडफ रहे है। मेरे बाल मन में अभी भी काकी जी की गोद में मस्तक रखने की अतृप्त प्यास पूरी तीव्रता से जोर मार रही है।

मैं जानता हूँ कि जीवन भर अयोध्या नाम को धारण करने वाली काकी जी पूरी नैतिकता से जीवन यापन करते हुए स्वयं भगवान श्री अयोध्यानाथ की शरण में चली गई है उनके महाप्रस्थान से मेरे जीवन में जो विराट शून्य उत्पन्न हुआ हैं, वह कभी भी भर नहीं पायेगा। पर यह समय अवसाद में जाने का नहीं हैं, काकी जी तो जीवित अवस्था में ही विदेह हो गई थी. उनका प्रत्येक श्वास मुझ सहित अनेक कार्यकर्ताओ की मंगल कामनाओं की प्रार्थना करते निकलता था। उन्होंने मुझसे कहा था कि देश के लिए खूब काम करना, राष्ट्र के कल्याण के लिए समर्पित रहना, अपने धर्म और संस्कृति की रक्षा के लिए दिन रात कार्य करना। अब समय है उनके इन्ही उपदेशों और आदेशों का पालन करने का, अब समय है कि उनकी आध्यात्मिक और दिव्य उपस्थिति को अनुभव करते हुए राष्ट्र के लिए काम करने का..

उनके अनंत आशीर्वचन मेरा मार्ग सदैव प्रशस्त कर रहें हैं आज भारत माता को परम वैभव के सर्वोच्च शिखर पर ले जाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने मुझे बंगाल में कार्य करने का दायित्व सौपा हैं। मैं अपने सम्पूर्ण प्राण प्रण से बंगाल में पार्टी की ऐतिहासिक विजय और अंतत: राष्ट्र की समृद्धि के लिए कार्य कर परम पूज्य काकी जी के श्री चरणों में पुष्पांजलि अर्पित करूँगा.. मैं उनके आदर्शों और मार्गदर्शन के अनुरूप आजीवन कार्य करने के लिए वचनबद्ध हूँ।

मैं अपने समस्त कार्यकर्ता बंधुओं, भगिनियों तथा शुभचिंतकों को इस अवसर पर उनकी शुभकामनाऔं के लिए धन्यवाद देता हूँ तथा विश्वास करता हूँ आपका स्नेह मझे सदैव की भान्ति आगे भी उपलब्ध रहेगा..

Crossing Laxman-Rekha is always Dangerous!

Crossing Laxman-Rekha is always Dangerous!

Ek hi shabd hai – Maryada!
Maryada ka ulanghan hota hai, toh Sita-haran ho jata hai. Laxman-Rekha har vyakti ki khichi gayi hai. Us Laxman-Rekha ko koi bhi par karega, toh Rawan samne baitha hai, woh Sita-haran karke le jayega. (One has to abide by certain moral limits. If you cross this limit you will be punished, just like Sita was abducted by Ravana)

Ek saath chunaav kee jaroorat

एक साथ चुनाव की जरूरत

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान की विधानसभाओं के चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर ज्यादातर राजनीतिक दल चुनावी मोड में हैं। इन तीन विधानसभा चुनावों के बाद देश एक बार फिर जल्दी ही लोकसभा के लिए चुनावी मोड में होगा। अगले वर्ष सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, तेलंगाना, ओडिसा और आंध्र प्रदेश विधानसभाओं के चुनाव लोकसभा चुनाव के साथ होंगे। अगले वर्ष ही कुछ समय बाद हरियाणा और महाराष्ट्र की विधानसभाओं के चुनाव होंगे। 2020 में झारखंड, दिल्ली और बिहार में विधानसभा के चुनाव होंगे। 2021 में जम्मू-कश्मीर,असम, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और पुद्दूचेरी में विधानसभाओँ के चुनाव होंगे। लोकसभा और विधानसभा के चुनावों के अलावा सभी राज्यों में स्थानीय निकायों के चुनाव भी होगें। यानी हर दो-तीन महीने बाद देश चुनावी मोड में होगा, सरकारें साइलेंट मोड में होंगी और नौकरशाही फ्लाइट मोड में चलेगी। ऐसी स्थिति से बचाने के लिए लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने के विचार पर देश में बहस छेड़ी गई है। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष श्री अमित शाह ने इसी मुद्दे पर विधि आयोग को एक पत्र सौंपा है। इस पत्र में उन्होंने महाराष्ट्र का उदाहरण देते हुए लिखा है वहां 365 दिनों में से 307 दिनों तक चुनावों के कारण आचार संहिता लगी रही। इस कारण विकास कार्यों में रुकावट आई और ऐसी स्थिति कई राज्यों में रही। श्री शाह ने सुझाव दिया है कि एक साथ चुनाव कराने से प्रशासनिक व्यय में कमी आएगी और विकास कार्यों में तेजी आएगी। साथ ही राजनीतिक दलों के चुनावी खर्च में भी कमी आएगी।

लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने का सुझाव नया नहीं है। देश में 1952, 1957, 1962 और 1967  के आम चुनावों के साथ ही विधानसभाओं के चुनाव होते रहे हैं। 1967 के लोकसभा चुनाव के साथ हुए विधानसभा चुनावों में बिहार, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, तमिलनाडु और केरल में कांग्रेस को बहुमत नहीं मिला था। आठ विधानसभाओं में पहली बार विपक्ष की संविद सरकारें बनीं। 1967 से पहले देश में गैर कांग्रेसवाद का नारा बुलंद हुआ था। विपक्ष ने मिलजुलकर कांग्रेस को बहुमत नहीं मिलने दिया। संयुक्त विपक्ष की सरकारें ज्यादा समय तक नहीं चल पाईं तो मध्यावधि चुनाव की शुरुआत हुई। 1969 में कांग्रेस टूटने के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने गरीबी हटाओ का नारा देते हुए लोकसभा चुनाव समय से पहले कराने का फैसला लिया और 1971 में पांचवीं लोकसभा के चुनाव हुए। इस तरह लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव कराने की परम्परा समाप्त हो गई। इंदिरा कांग्रेस को लोकसभा चुनाव में जबरदस्त बहुमत मिला तो 18 विधानसभाओं को भंग करके मध्यावधि चुनाव कराए गए। 1977 में लोकसभा चुनाव में जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद कई राज्यों की विधानसभाओं को भंग करके चुनाव कराए गए। 1980 में जनता पार्टी के विघटन और इंदिरा गांधी की सत्ता में वापसी के बाद फिर से विधानसभाओं को भंग करके चुनाव कराए गए। इस स्थिति में एक साथ चुनाव का कराने का सबसे पहले चुनाव आयोग ने 1983 में सुझाव दिया। 1999 में विधि आयोग ने अपनी 170वीं रिपोर्ट में एक साथ चुनाव कराने का सुझाव दिया। समय-समय पर कुछ राजनीतिज्ञ भी एक साथ चुनाव कराने का सुझाव देते रहे। 2003 में तत्कालीन उपप्रधानमंत्री श्री लालकृष्ण आडवाणी ने चुनावों में बढ़ते खर्च के मद्देजनर लोकसभा चुनाव के साथ ही विधानसभाओं के चुनाव कराने का सुझाव दिया। श्री आडवाणी ने 2009 के लोकसभा चुनाव से पहले भी एक देश-एक चुनाव का सुझाव दिया। 2012 में उन्होंने तत्कालीन राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी को पत्र भेजकर चुनाव सुधार के लिए कदम उठाने की अपील की थी। इस मुद्दे पर उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री डा.मनमोहन सिंह से भी चर्चा की थी। तब श्री सिंह ने इस मुद्दे पर सहमति जताई थी। श्री आडवाणी ने बार-बार होने वाले मध्यावधि चुनावों को लेकर भी लोकसभा और विधानसभाओं की अवधि तय करने का सुझाव भी दिया था। तब चुनाव आयोग या केंद्र सरकार ने इस सुझाव पर कोई ध्यान नहीं दिया। 2015 में ससंदीय समिति ने भी एक साथ चुनाव कराने के लिए अपनी रिपोर्ट में सिफारिश की है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भी देश की जनता के सामने यह सुझाव रखा और सभी राजनीतिक दलों से इस मुद्दे पर चर्चा करने का अनुरोध किया। डा.प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति रहते हुए कुछ अवसरों पर लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने पर सहमति जताई। राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने भी इस मुद्दे पर सहमति जताई। भाजपा अध्यक्ष श्री अमित शाह ने चुनावी खर्च में तेजी से हो रही बढ़ोतरी को लेकर भी एक साथ चुनाव कराने का सुझाव आगे बढ़ाया है। चुनाव में खर्चों में बढ़ोतरी को लेकर सभी दल इसमें कटौती करने के पक्ष में हैं। 1952 के लोकसभा और विधानसभाओं के चुनावों पर दस करोड़ खर्च हुए थे। 2014 के लोकसभा चुनाव पर ही सरकार ने 4500 करोड़ खर्च किए। एक अनुमान के अनुसार राजनीतिक दलों की तरफ से 30 हजार करोड़ खर्च करने का हिसाब लगाया गया है। 1999 से लेकर 2014 के आम चुनावों के दौरान 16 बार ऐसा हुआ है कि छह महीनों के भीतर ही विधानसभाओं के चुनाव हुए हैं।

मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष एकजुट होने की कोशिश में हैं। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, कम्युनिस्ट, तेलुगूदेशम पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल, एआईएमआईएम और आम आदमी पार्टी एक राष्ट्र-एक चुनाव के पक्ष में नहीं है। कांग्रेस के साथ गठबंधन की बात करने वाली समाजवादी पार्टी ने एक साथ चुनाव कराने पर रजामंदी जताई है। तेलंगाना राष्ट्र समिति, अन्नाद्रमुक, बीजू जनता दल और शिरोमणि अकाली दल भी एक साथ चुनाव कराने पर सहमत हैं। कुछ दल इस मसले पर संविधान संशोधन की जरूरत बता रहे हैं। भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त ने वीवीपीएटी मशीनों की कमी के आधार पर एक साथ चुनाव कराने में असमर्थता जताई है। 1952 में हुए लोकसभा और विधानसभाओं के चनाव की तुलना में आज हमारे पास ज्यादा संसाधन हैं। देश में और राज्यों में कई गुणा सुरक्षा बल हैं। परिवहन के साधन बहुत बढ़े हैं। पहले के मुकाबले सूचना तेजी से दी जा सकती हैं। चुनावों पर नजर रखने के पूरे संसाधन हैं। कांग्रेस और कुछ दलों को लगता है कि एक साथ चुनाव हुए तो नरेंद्र मोदी का मुकाबला नहीं कर पाएंगे। मोदी के नाम पर राजग के दलों को राज्यों में लाभ हो सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक राष्ट्र-एक चुनाव का सुझाव देश की तेजी से विकास करने और चुनाव खर्च में कमी लाने के मकसद से की है। राजनीति के शिखर पुरुष पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल विहारी वाजपेयी ने 1996 में विश्वासमत के दौरान कहा था कि ‘सत्ता का खेल तो चलेगा..सरकारें आएंगी जाएंगी। पार्टियां बनेंगी बिगड़ेंगी। मगर ये देश रहना चाहिए। इस देश का लोकतंत्र अमर रहना चाहिए। भारतीय जनता पार्टी भी इसी उदेश्य को लेकर आगे बढ़ रही है। चुनाव में जनता किसे चुनेगी, यह जनता का अधिकार है। हमारा कर्तव्य है कि हम देश को तेजी से तरक्की के रास्ते पर लाने के लिए एक राष्ट्र-एक चुनाव के सुझाव पर एकजुट हों।