Yuva Mahotsav- On the occasion of TCS Bhoomi Pujan

मांग और खपत एक साइक्लिक प्रोसेस है…पिछले कुछ वर्षों में मध्यप्रदेश सरकार ने लगभग हर शहर में इंजीनियरिंग, मेडिकल व अन्य कॉलेजेस एवं शैक्षणिक संस्थानों तथा प्राइवेट यूनिवर्सिटीज की शुरुआत कर बहुत समय से जो आवश्यकता थी उसे पूरा किया. इन संस्थानों की स्थापना से पहले मध्यप्रदेश के युवाओं को पढ़ाई के लिए पूना, दिल्ली, बैंगलोर और मुंबई जैसे शहरों में जाकर मोटी फीस भरना पड़ती थी. और इसके साथ ही अपने घर को छोड़कर किसी अन्य शहर में रहने का अतिरिक्त खर्चा भी वहन करना पड़ता था. इन सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश में संस्थानों की स्थापना और विकास का ज़िम्मा उठाया और मध्यप्रदेश के छात्र-छात्राओं को शिक्षा के बेहतरीन अवसर उपलब्ध कराए.

मगर मध्यप्रदेश के युवाओं को सुनहरा भविष्य देने का उद्देश्य यहीं पूरा नहीं होता. अच्छे रोज़गार के बिना जैसे सारी मेहनत व्यर्थ है. छात्र-छात्राओं को बड़े संस्थानों में नौकरी की चाह में प्रदेश छोड़कर जाना पड़ता था इसलिए मुख्यमंत्री जी ने इस तरह की उद्योग नीतियाँ बनाई जिनसे छोटे-बड़े सभी उद्योग मध्यप्रदेश में आकर्षित हों और युवाओं को मध्यप्रदेश में ही अधिक से अधिक रोज़गार उपलब्ध हो सकें. नीतियों में इस बात का ध्यान रखा गया कि सरकार किसी उद्योग की स्थापना हेतु ज़मीन, बिजली या अन्य संसाधनों में छूट उस अनुसार देगी जिस अनुपात में मध्यप्रदेश के युवाओं को रोज़गार उपलब्ध कराया जाएगा. शिवराज सिंह जी की अपने प्रदेश के युवाओं के लिए इस स्तर की संवेदनशीलता और जागरूकता वास्तव में प्रशंसनीय है. मैं इस बात का साक्ष हूँ कि उन्होंने हर मीटिंग में हर जगह इस बात का उल्लेख किया है कि उद्योग को फायदा तभी दो जब मध्यप्रदेश के युवाओं को उससे फायदा हो…उद्योग छात्र-छात्राओं को जितना फायदा देंगे उतना ही फायदा उन्हें सरकार की ओर से दिया जाए! मध्यप्रदेश के चिंतनशील मुख्यमंत्री जी की यह सोच वाकई प्रशंसनीय है!

आज TCS के भूमि पूजन के साथ इस अनूठी पहल का आगाज़ होने जा रहा है. इंदौर और मध्यप्रदेश के छात्र-छात्राओं के लिए यह बड़ी खबर है कि इंदौर में जल्द ही आईटी हब स्थापित होगा और आईटी के साथ-साथ अन्य क्षेत्र के भी कई छात्रों को इससे नेशनल-मल्टी नेशनल कंपनियों में रोज़गार के अवसर मिलेंगे. अब दूसरे शहरों में जाने की ज़रुरत नहीं. इंदौर आईटी शहर के रूप में जल्द ही जाना जायेगा.

जॉब्स के प्रति निराशा का दौर यहीं समाप्त होता है और एक नए युग की शुरुआत होती है…युवा-महोत्सव में आप सभी आमंत्रित हैं!